Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2023 · 1 min read

*हिंदी दिवस*

हिंदी दिवस
———————
इंग्लिश के तो अक्षर भी साइलेंटट हो जाते हैं…!
हमारी हिन्दी की तो बिन्दी भी बोलती है…!
रहे बस प्रेम हिंदी में,
पढूँ हिंदी, लिखूँ हिंदी,
चलन हिंदी चलूँ,
हिंदी पढना,ओढ़ना खाना
भवन में रोशनी मेरे रहे हिंदी चिरागों की
स्वदेशी ही रहे बाजा, बजाना राग का गाना

सभी मित्रों को “हिंदी दिवस”की हार्दिक बधाई 💞💞

1 Like · 155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
लोरी
लोरी
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
नववर्ष तुम्हे मंगलमय हो
नववर्ष तुम्हे मंगलमय हो
Ram Krishan Rastogi
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उम्मीदें
उम्मीदें
Dr. Kishan tandon kranti
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
DrLakshman Jha Parimal
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
💐अज्ञात के प्रति-146💐
💐अज्ञात के प्रति-146💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सच है, दुनिया हंसती है
सच है, दुनिया हंसती है
Saraswati Bajpai
वाणशैय्या पर भीष्मपितामह
वाणशैय्या पर भीष्मपितामह
मनोज कर्ण
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
रहता धन अक्षय कहाँ, सोना-चाँदी-नोट( कुंडलिया)
रहता धन अक्षय कहाँ, सोना-चाँदी-नोट( कुंडलिया)
Ravi Prakash
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
Loading...