Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2021 · 2 min read

“हिंदी की दशा”

हिंदी दिवस के सुअवसर पर एक कविता
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

“हिंदी की दशा”
************

भटकती आत्मा देखो,
हिंदी की, आज;
14 सितंबर को,
फिर प्रकट हुई।
दिवस मनाने की,
आनन- फानन में,
होती तैयारी देखो,
ये समस्या कितनी,
फिर से विकट हुई।
हिंदी-हिंदी बोलते,
निकले सभी बिलों से;
हिंदी की दुर्दशा के,
परिणाम पूछो वकीलों से।
इंग्लिश का कमाल देखो,
उच्च शिक्षा के अध्य्यन में;
हम सिर्फ क,ख, ग़, घ ही,
सीख पाते, हिंदी माध्यम में।
पैसेवालों के बच्चे पढ़ते,
इंग्लिश, कॉन्वेंट में;
गरीबों के बच्चें पढ़ते हिंदी,
पेड़ों के नीचे और टेंट में।
किसी देश के हित की,
होती तीन ही आधार;
भूमि, जन और अपनी,
राष्ट्रभाषा से ही प्यार।
हिंद की अपनी भूमि है,
जनों का भी अंबार है;
मगर यहां सबों को सिर्फ,
अपनी-अपनी भाषा से ही,
खूब प्यार है।
संस्कृत ही रह-रहकर,
सदा याद दिलाती है,
हम ही माता हैं,
हिंदी हमारी बेटी है;
सोचो, बेटी की दुर्दशा से,
माता को क्या कष्ट होती है।
हिंदी की लिपि देवनागरी भी,
संस्कृत से उधार है,
ये संस्कृत का आभार है,
मां का बेटी प्रति प्यार है।
हिंदी कलमरूपी तलवार,
हुआ करती थी कभी,
देश के सच्चे वीरों की;
अब हिंदी सिर्फ हथियार है,
कुछ राजनीतिक लूटेरों की।
सरकारें सिर्फ चिल्लाती है,
हिंदी को बस सहलाती है;
दशकों से हिंदी प्रेमी को,
इस दिन मूर्ख बनाती है।
भटकती आत्मा देखो,
हिंदी की, आज ;
फिर से प्रकट हुई;
देखो,समस्या अब,
कितनी विकट हुई।
आओ मिलकर करे प्रण,
हिंदी का अब नहीं,
होने देंगे चीरहरण;
हिंदी को हम बचाएंगे,
हिंदी विरोधी गद्दारों को,
जरूर हम भगाएंगे।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
“जय हिंदी”. “जय भारत*

स्वरचित सह मौलिक
…. ✍️”पंकज कर्ण”
…… ……कटिहार।।

Language: Hindi
3 Likes · 836 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
"पानी-पूरी"
Dr. Kishan tandon kranti
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3006.*पूर्णिका*
3006.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम गए कहाँ हो 
तुम गए कहाँ हो 
Amrita Shukla
प्यार कर हर इन्सां से
प्यार कर हर इन्सां से
Pushpa Tiwari
हम बदल गये
हम बदल गये
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
खुशियों की सौगात
खुशियों की सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
*श्री जगन्नाथ रस कथा*
*श्री जगन्नाथ रस कथा*
Ravi Prakash
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
Phool gufran
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
मैं लिखती नहीं
मैं लिखती नहीं
Davina Amar Thakral
मुबारक़ हो तुम्हें ये दिन सुहाना
मुबारक़ हो तुम्हें ये दिन सुहाना
Monika Arora
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
■ उसकी रज़ा, अपना मज़ा।।
■ उसकी रज़ा, अपना मज़ा।।
*प्रणय प्रभात*
Loading...