Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

हार पर प्रहार कर

हार पर प्रहार कर

हार पर प्रहार कर,
खड्ग को फिर से धार कर,
समय का कोप कुछ नहीं,
समय को तार-तार कर।
हार भी तो शस्त्र है,
और लक्ष्य भी तो सज्ज है,
तू युद्ध से क्यों बच रहा?
जब तेरा तीर वज्र है।
लक्ष्य फिर से साध कर,
और अस्त्र शस्त्र तान कर,
अटल है गीत जीत का,
ये जानकर तू वार कर।
गगन भी कपकपायेगा
विजय का गीत गाएगा,
सामर्थ्य का प्रमाण दे ,
तू विश्व भर में छायेगा।।
✍ सारांश सिंह ‘प्रियम’

2 Likes · 528 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
*रामदेव जी धन्य तुम (नौ दोहे)*
*रामदेव जी धन्य तुम (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
#क़तआ
#क़तआ
*प्रणय प्रभात*
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
Subhash Singhai
"नाना पाटेकर का डायलॉग सच होता दिख रहा है"
शेखर सिंह
हद
हद
Ajay Mishra
"बँटबारे का दंश"
Dr. Kishan tandon kranti
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
नारी है नारायणी
नारी है नारायणी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पीड़ाएं सही जाती हैं..
पीड़ाएं सही जाती हैं..
Priya Maithil
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
लेशमात्र भी शर्म का,
लेशमात्र भी शर्म का,
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उस रात रंगीन सितारों ने घेर लिया था मुझे,
उस रात रंगीन सितारों ने घेर लिया था मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
Loading...