Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

हार जाती मैं

हमेशा झुक जाती हूं मैं उसके प्यार के आगे,
मोहब्बत मे मैने अपना जमीर बी बेचा है।

Language: Hindi
Tag: शेर
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
कोई कितना
कोई कितना
Dr fauzia Naseem shad
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
Quote Of The Day
Quote Of The Day
Saransh Singh 'Priyam'
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
लफ्ज़ों की जिद्द है कि
लफ्ज़ों की जिद्द है कि
Shwet Kumar Sinha
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
3312.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3312.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
अपनी पहचान का मकसद
अपनी पहचान का मकसद
Shweta Soni
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*अम्मा जी से भेंट*
*अम्मा जी से भेंट*
Ravi Prakash
"शतरंज"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सोचता हूँ  ऐ ज़िन्दगी  तुझको
सोचता हूँ ऐ ज़िन्दगी तुझको
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...