Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2023 · 1 min read

हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है

हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
घर से निकलो दूर तो तब घर याद आता है।

जमाने को बदलने की फिराक में हूं लेकिन
मजबूरियों मै भी उठा हुआ सर याद आता है ।

दीपक सरल

1 Like · 251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
जल्दी-जल्दी  बीत   जा, ओ  अंधेरी  रात।
जल्दी-जल्दी बीत जा, ओ अंधेरी रात।
दुष्यन्त 'बाबा'
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
■ दूसरा पहलू...
■ दूसरा पहलू...
*Author प्रणय प्रभात*
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
Buddha Prakash
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
६४बां बसंत
६४बां बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"फितरत"
Ekta chitrangini
फागुन
फागुन
पंकज कुमार कर्ण
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
बदली-बदली सी तश्वीरें...
बदली-बदली सी तश्वीरें...
Dr Rajendra Singh kavi
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
हर शायर जानता है
हर शायर जानता है
Nanki Patre
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मार्शल आर्ट
मार्शल आर्ट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...