Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

हाय.

हाय.
वो माथे पे तुम्हारे बिखरे बाल ,
मैं दिल हार गया यूँही देखते देखते !!

Vishal babu

171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
मणिपुर कौन बचाए..??
मणिपुर कौन बचाए..??
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
प्रेमचंद के पत्र
प्रेमचंद के पत्र
Ravi Prakash
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
दोहे
दोहे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
manjula chauhan
★
पूर्वार्थ
सीमा प्रहरी
सीमा प्रहरी
लक्ष्मी सिंह
सफर की महोब्बत
सफर की महोब्बत
Anil chobisa
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
"गाली"
Dr. Kishan tandon kranti
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
जिज्ञासा और प्रयोग
जिज्ञासा और प्रयोग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...