Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2022 · 1 min read

हाथ मलना चाहिए था gazal by Vinit Singh Shayar

हमें कुछ कर गुज़रना चाहिए था
उसी दर पर ही मरना चाहिए था

मिलाता है तू उस से आँख कैसे
तुम्हे तो यार डरना चाहिए था

पता गलत जो लिख डाला है तुमने
ख़त उसके नाम करना चाहिए था

लगाई थी कभी जो आग तुमने
हमें उसमें ही जलना चाहिए था

तेरे जाने पर नाचता है ये कैसे
उसे तो हाथ मलना चाहिए था

बदल डाले हो अपना तुम ठिकाना
हमारे साथ चलना चाहिए था

हिज्र के वक़्त के ये मुस्कान कैसी
हमें तो यार लड़ना चाहिए था

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

Language: Hindi
163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
மறுபிறவியின் உண்மை
மறுபிறவியின் உண்மை
Shyam Sundar Subramanian
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*वह अनाथ चिड़िया*
*वह अनाथ चिड़िया*
Mukta Rashmi
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
डर लगता है
डर लगता है
Dr.Pratibha Prakash
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जिंदगी एक सफर सुहाना है
जिंदगी एक सफर सुहाना है
Suryakant Dwivedi
"ज्ञान-दीप"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
Ravi Prakash
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
3222.*पूर्णिका*
3222.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमीर
अमीर
Punam Pande
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
.
.
*प्रणय प्रभात*
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
Sarfaraz Ahmed Aasee
जां से बढ़कर है आन भारत की
जां से बढ़कर है आन भारत की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
बहुत कुछ जान के जाना है तुमको, बहुत कुछ समझ के पहचाना है तुम
बहुत कुछ जान के जाना है तुमको, बहुत कुछ समझ के पहचाना है तुम
पूर्वार्थ
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
Lokesh Sharma
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
Loading...