Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Feb 2024 · 1 min read

हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें

हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
किया कर्म तो लकीरों में लिखा बदलते देखा सबने

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
Phool gufran
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
संगत
संगत
Sandeep Pande
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-74💐
💐अज्ञात के प्रति-74💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Preparation is
Preparation is
Dhriti Mishra
जैसे आँखों को
जैसे आँखों को
Shweta Soni
संगति
संगति
Buddha Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
Ravi Prakash
लहजा बदल गया
लहजा बदल गया
Dalveer Singh
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
रिश्तों का बदलता स्वरूप
रिश्तों का बदलता स्वरूप
पूर्वार्थ
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मेरी एजुकेशन शायरी
मेरी एजुकेशन शायरी
Ms.Ankit Halke jha
"आज मग़रिब से फिर उगा सूरज।
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...