Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

हाथों ने पैरों से पूछा

हाथों ने पैरों से पूछा
सब तुम्हे ही प्रणाम क्यों करते हैं
पैर बोला
उसके लिए जमीन पे रहना पड़ता है
हवा में नहीं…..

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
💐अज्ञात के प्रति-112💐
💐अज्ञात के प्रति-112💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
2872.*पूर्णिका*
2872.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Tlash
Tlash
Swami Ganganiya
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
Shubham Pandey (S P)
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
8. टूटा आईना
8. टूटा आईना
Rajeev Dutta
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
दूसरे दर्जे का आदमी
दूसरे दर्जे का आदमी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"तकरार"
Dr. Kishan tandon kranti
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
पूर्वार्थ
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*अध्याय 12*
*अध्याय 12*
Ravi Prakash
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
अपराध बालिग़
अपराध बालिग़
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...