Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2020 · 1 min read

हाइकु

हाइकु रचना
***********
1
स्वतंत्र पक्षी
परतंत्र मानव
खुदा ही जाने
2
स्वार्थी मानव
निस्वार्थी है प्रकृति
पाप का भागी
3
कढ़ी जो नारी
पढ़ी लिखी पे भारी
बचे समाज
4
बंजर भूमि
फल ना ही अनाज
दुत्कारी जाती
5
संस्कारी नारी
घर पर है स्वर्ग
वर्ना नरक
6
कमाऊ पति
सुचरित्र हो पत्नि
घर में स्वर्ग
7
छोटो को प्यार
बड़ों का हो सत्कार
है चमत्कार
8
दुख का साया
मोह माया की छाया
घर बर्बाद
9
दारू का आदी
खानदान खराबी
हर्ष विराम
10
फूल सी बेटी
डोली में जब बैठी
हुई पराई
*************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Language: Hindi
1 Comment · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सावन में अब की बार
*सावन में अब की बार
Poonam Matia
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
आप हर पल हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे
आप हर पल हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे
Raju Gajbhiye
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
" मेरी ओकात क्या"
भरत कुमार सोलंकी
प्रेम पर्व आया सखी
प्रेम पर्व आया सखी
लक्ष्मी सिंह
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
पिनाक धनु को तोड़ कर,
पिनाक धनु को तोड़ कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
मेरा वतन
मेरा वतन
Pushpa Tiwari
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
Mushaakil musaddas saalim
Mushaakil musaddas saalim
sushil yadav
Happy Father's Day
Happy Father's Day
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
कार्तिक नितिन शर्मा
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
"पता"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...