Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2016 · 1 min read

हां नारी हूँ

” मैं चपला सी तेज युक्त
नभ तक धाक जमाऊँ

आ सूरज, तेरी किरणों से
अपना भाल सजाऊँ

कभी धरा- गांभीर्य ओढकर
मौन का काव्य सुनाऊँ

तितली से लेकर चंचलता
फूलों से रंग चुराऊँ

सरिता सी कल-कल बहती
बाधा से रुक ना पाऊँ

मैं स्वयं भोर की उजली
दुःख तम से क्या घबराऊँ

हाँ नारी हूँ , मैं कोमल मन
पर अबला नहीं कहाऊँ….””

**अंकिता**

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 530 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
फादर्स डे ( Father's Day )
फादर्स डे ( Father's Day )
Atul "Krishn"
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
मनभाते क्या घाट हैं, सुंदरतम ब्रजघाट (कुंडलिया)
मनभाते क्या घाट हैं, सुंदरतम ब्रजघाट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
हमने माना अभी अंधेरा है
हमने माना अभी अंधेरा है
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
💐प्रेम कौतुक-513💐
💐प्रेम कौतुक-513💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
सम्बंध बराबर या फिर
सम्बंध बराबर या फिर
*Author प्रणय प्रभात*
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
Neeraj Agarwal
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
pravin sharma
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
"एक बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
Loading...