Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2023 · 1 min read

हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी

हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी,यहाँ तुमसे मिलने को मैं।
पूछने को यहाँ तुम्हारे हाल,यहाँ तुमको देखने को मैं।।
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी—————-।।

अभी तक नहीं बदली है, मेरे लिए नफरत दिल में।
बिछा रखें हैं कांटें अभी तक, तुमने मेरी मंजिल में।।
कैसे मानू तुम्हें अपना मैं, शक मेरा मिटेगा कभी नहीं।
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी—————।।

बदनामी तुम्हारी नहीं हो, यह नाटक तुम करते हो।
मानकर मुझको अपना तुम, बुराई से तुम बचते हो।।
क्या मिलेगा तुमसे मुझको, मेरे अपमान के सिवा और।
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी —————–।।

मेरी बर्बादी जो हुई है, जिम्मेदार हो इसके तुम।
मतलबी मैं जो हुआ हूँ , गुनाहगार हो इसके तुम।।
नहीं अब तुमसे कोई रिश्ता, नहीं इज्जत तुम्हारे लिए।
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी ——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शेर
शेर
Monika Verma
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
#प्रभात_चिन्तन
#प्रभात_चिन्तन
*प्रणय प्रभात*
अलसाई सी तुम
अलसाई सी तुम
Awadhesh Singh
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आखिर क्या है दुनिया
आखिर क्या है दुनिया
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
23/201. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/201. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*भालू (बाल कविता)*
*भालू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कुसुमित जग की डार...
कुसुमित जग की डार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
"अल्फाज दिल के "
Yogendra Chaturwedi
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
"" *आओ गीता पढ़ें* ""
सुनीलानंद महंत
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
चंद शब्दों से नारी के विशाल अहमियत
चंद शब्दों से नारी के विशाल अहमियत
manorath maharaj
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
तुझे पाने की तलाश में...!
तुझे पाने की तलाश में...!
singh kunwar sarvendra vikram
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
Loading...