Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ

देख रखा हूं सीख रखा हूं।
लगता है आप कितने खास है,
लेकिन आप इस्तेमाल मात्र हैं।
हां देख रहा हूं सीख रहा हूं।
लोग चालाकियो से मतलब निकालते हैं,
दिल वालो को दिमाक से फसाते है।
हां देख रहा हूं सीख रहा हूं।
यहां झूठ का बोलबाला है,
सब ने मतलब के लिये ही रिश्तो को संभाला है।
हां देख रहा हूं सीख रहा हूं।
समझ रहा हूं मैं भी अब रिश्तो को,
अब तक मैंने झूठ को ही सच माना है।
हां देख रहा हू सीख रहा हूं।
खैर गौर न करना मेरी बातो पर,
मैंने मन से मन की व्यथा को निकाला है।

Language: Hindi
682 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
gurudeenverma198
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
Shweta Soni
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
गुरु के पद पंकज की पनही
गुरु के पद पंकज की पनही
Sushil Pandey
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
Phool gufran
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
मौत की आड़ में
मौत की आड़ में
Dr fauzia Naseem shad
कलियों  से बनते फूल हैँ
कलियों से बनते फूल हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
shabina. Naaz
शिक्षक (कुंडलिया )
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
Loading...