Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

हसरतों के गांव में

-**हसरतों के गाॅंव में**

मन में हुक उठी है
दिल मेरा तड़प उठा
मुझको जाना अपने
हसरतों के गांव में।

जहां पर बीता बचपन मेरा
छोटा सा वह संसार है मेरा
गांव की मिट्टी की वह खुशबू
खेतों को जाते जाते
राह में खड़े पौधों से
वह रंग-बिरंगे फूलों का चुनना
राह में पेड़ों पर से
जामुन ,आम ,अमरूद
को देख मचलना
मुझको बहुत याद आता है
मेरे हसरतों का गांव।

वह बारिश के मौसम में
दौड़ दौड़ कर
पेड़ों के नीचे रुकना
छप -छप करते चलना
जैसे मिल गई हो खुशियां
मुझको यहां सारे जहां की
यादों से भरा पड़ा है
मुझको अब फिर जाना है
हसरतों के गांव में।

पापा की प्यारी गुड़िया थी
शहजादी सी रहती थी
तितली की तरह उड़ती थी
चेहरे पर खुशियां रहती थी
सोच के मैं तो सिहर उठी हूं
उन्मुक्त गगन में
बीता बचपन मेरा
मैं तो बदली सी मंडराती थी
अपने हसरतों के गांव में।

हरमिंदर कौर
अमरोहा यूपी
मौलिक रचना

2 Likes · 2 Comments · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
इस क़दर
इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
Samay  ka pahiya bhi bada ajib hai,
Samay ka pahiya bhi bada ajib hai,
Sakshi Tripathi
"कष्ट"
नेताम आर सी
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/67.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/67.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
दाता तुमने जो दिया ,कोटि - कोटि उपकार
दाता तुमने जो दिया ,कोटि - कोटि उपकार
Ravi Prakash
पुश्तैनी मकान.....
पुश्तैनी मकान.....
Awadhesh Kumar Singh
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
gurudeenverma198
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
■ आज का मुक्तक...
■ आज का मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
Loading...