Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2022 · 4 min read

हवा-बतास

‘ये ईया! कुछ समय खातिर गाजियाबाद चलऽ ना!’
‘ना बाबू! हमके शहर के पानी सूट ना करी… रहे दऽ।’
मोहन के ईया उनके मना क दिहली। मोहन के परिवार में उनके माई, बाबूजी, भाई आ बहिन गाँव में ईया के साथे रहत रहे लो। मोहन गाजियाबाद के एगो कारखाना में काम करत रहलन। उनके मेहरारु आ दू गो लइका उनही के साथे गाजियाबाद में रहे लो। मोहन कुछ दिन खातिर घरे आइल रहलन।
‘ये ईया! एक बेर चलऽ त सही, हमरा पूरा विश्वास बा कि ओइजा के सुख-सुविधा तहार मन मोहि ली।’ मोहन हाँथ जोरि के कहलन।
‘बाबू! पूरा जिनिगी येही माटी में सिरा गइल अब ये बुढ़ौती में का दुनिया देखावल चाहत बाड़ऽ, छोड़ऽ जाये दऽ!’
‘बस एक बेर चलऽ ना! हमरा आशा बा कि तहरा शहर में बहुते अच्छा लागी!’
मोहन के परिवार एगो बहुते सभ्य आ संस्कारित परिवार रहे। सब केहू इहे सोचे कि पूरनिया के सेवा हमहीं करीं। मोहन अपनो हिस्सा के सेवा क लिहल चाहत रहलन। येही से जिद प उतारू हो गइलन। नाती के जिद देखि के ईया के एक ना चलल। ऊ गाजियाबाद जाये खातिर तइयार हो गइली। मजबूरी में घरवो के लोग जाये के इजाजत दे दिहल।
सबेरे मोहन अपनी कार से शहर खातिर चल दिहलन। कई घंटा के सफर के बाद गाड़ी जब गाजियाबाद पहुँचल त ईया के माथा जवन लमहर यात्रा के कारन पहिलहीं से घुमावत रहे, शहर के अजीब दुर्गंध से अउर तेज घुमावे लागल। उनके उल्टी प उल्टी होखे लागल। मोहन कुल्ला करऽवलन आ कोल्डड्रिंक ले के अइलन। ईआ कहली ‘हम ई ना पीअबि, ई बहुते नटई जरावेला। चलऽ अब उल्टी ना होई।’ ईया तनी सा पानी पियली फेर गाड़ी आगे बढ़ि चलल।
‘बाबू येहिजा येतना बसात कवन ची बा हो?’
‘नाला के पानी हऽ। अपनी गाँवे के नहर जेतना चाकर बा, ओकरो से चाकर येइजा के नाला बा। जेइमें शहर के तमाम खराब फल, सब्जी, अनाज, खाना, कपड़ा-लत्ता, पलास्टिक इहाँ तक ले की मल-मूत्र हरदम बहत आ सरत रहेला। उहे कुल बसा रहल बा।’
ईया के फेर ओकाई आवे लागल।
‘ये बाबू! कवनो बाग-बगइचा होखे त रोकऽ, तनी सुस्ता लिहल जा फेर आगे चलल जाई।’
ईया गाड़ी से बाहर देखली, दूर दूर ले गाड़ियन के भीड़ रहे, पैदल, मोटरसाइकिल भा साइकिल से लोग येने ओने ये तरे भागत रहे जइसे कुछु भिला गइल होखे भा छूट गइल होखे। ऊ गाँव के लोगन में येतना बेचैनी कबो ना देखले रहली। उनके आसमान छुअत इमारत, चिमनी, धुँआ आ शोरगुल के अलावा कवनो छायादार पेड़ ना लउकल। मोहन कहलें- ‘चलऽ अब ढेर लामें नइखे, क्वाटरे पर आराम कइल जाई। येने पेड़-खूंट बहुत कम बाड़ीसन, आ जवन बचलो बा उहो कारखाना भा घर बनावे खातिर लगातार कटात जात बा। बुझात बा कि कुछ बरीस में इँहवा साँसो लिहल मुश्किल हो जाई।’
‘कुछ बरीस के का कहत बाड़ऽ, हमरा त अबे से साँस फूलल आ आँखि भाम्हाइल शुरू हो गइल बा।’
मोहन मनेमन सोचे लगलें ‘हम ईया के येइजा लेआ के गलती त ना क दिहनी! कहीं ई बेमार मत हो जास! अभिन येतने देर में ई हाल बा, एक-दू महीना में का होई!’ ईहे कुल सोचत ऊ अपना क्वाटर पर पहुँच गइलन।
‘ये नेहा! देखऽ केकरा के ले आइल बानीं! मोहन के मेहरारु नेहा क्वाटर से बाहर निकलली त ईया के देखी के अघा गइली। ऊ उनकर पाँव छुवली आ अंदर ले के जाते रहली तले उनके दुनु लइका स्कूल से आ गइलन सँ आ ‘दादी अइली… दादी अइली…’ कहत उनके पाँजा में पकड़ी लिहले सन। पनातिन के देखि के ईया के मन गदगद हो गइल। ऊ दुनु बचवन के खूब दुलार आ आशीष दिहली।
सभे अंदर आइल, ईया के तबियत गड़बड़ा गइल रहे येहीसे ऊ कुछ खइली ना। रातभर उनके नींद ना आइल कहाँ गाँव के शांत आ पवित्र वातावरन आ कहाँ इ शहर के पेंक-पांक, जहर भरल हवा। साँस लिहला आ आँख में जलन के दिक्कत बढ़ते गइल। ईया रातभर ना सुतली त दुसरो केहू के नींद ना आइल। सबेरे नहा धो के ऊ तनी सा खाना खइली बाकिर साँस फूलले के परेशानी बढ़ते जात रहे। मोहन डिउटी पर चल गइल रहलन, ईया के दम घुटे लागल, कुछ देर में उनके तबियत अउर खराब हो गइल। अचानक ऊ बेहोश हो के गिर गइली। नेहा ई सब देखि के घबरा गइली ऊ मोहन लगे फोन क के सब हाल बतवली आ ईया के लेके हास्पिटल पहुँच गइली जहाँ उनके आक्सीजन दिआये लागल। मोहन हास्पिटल पहुँचलन त उनके ईया अभीन बेहोशे रहली। ऊ बैचैन हो गइलन। घरहू फोन करे के हिम्मत ना होखे, काहे कि ऊ खुदही जिद क के उनके येइजा ले आइल रहलन। पुछला पर डाक्टर बतवलन कि अत्यंत प्रदूषण के कारन ई दिक्कत भइल बा। कुछ समय के बाद इनके होश आ जाई।
दू-तीन घंटा के बाद ईया के होश आ गइल। होश आवते ऊ मोहन से कहली ‘हमके गाँवे… पहुँचा दऽ! ये शहर में हम… ना जी पाइबि। गाँव के हवा-बतास खातिर एके दिन में ई आत्मा तरस गइल बा। तुहूँ ये शहर…के बजाय कवनो अइसन शहर में…नोकरी खोजि ल जहाँ…शुद्ध हवा पानी मिले!’ नेहा उनकी बाति के समर्थन कइली आ कहली कि ‘लइकन के आज से गरमी के छुट्टी हो गइल बा हमनियो के लेहले चलीं। बहुत दिन हो गइल गाँव के अमरित नियर हवा खइले। हमनी के पहुँचा के आइबि त तनी कम्पनी से बात क के कवनो साफ सुथरा शहर में आपन ट्रांसफर करवा लेब। लइको जब शुद्ध वातावरन में पढ़िहे सन त ओकनी के दिमाग आ देहि बढ़िया से विकसित होई।’ मोहन हामीं भरले।
ओइदिने सांझी के सभे गाँव के ओर चल दिहल। शहर पार करते ईया के साँस के गति सामान्य होखे लागल। ईया के तबियत सुधरत देख मोहन के जान में जान आइल।

कहानी- आकाश महेशपुरी
दिनांक- 21/05/2022

Language: Bhojpuri
Tag: कहानी
9 Likes · 7 Comments · 742 Views
You may also like:
आदत
Anamika Singh
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
इतना आसां कहां
कवि दीपक बवेजा
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
सावन में साजन को संदेश
Er.Navaneet R Shandily
सवैया /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परख किसको है यहां
Seema 'Tu hai na'
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
आप हमको जो पढ़ गये होते
Dr fauzia Naseem shad
ये किस धर्म के लोग है
gurudeenverma198
बेचू
Shekhar Chandra Mitra
एक ठहरा ये जमाना
Varun Singh Gautam
कृष्ण मुरारी
लक्ष्मी सिंह
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख्वाब
Swami Ganganiya
ग़ज़ल
kamal purohit
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-1)
Sahityapedia
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
Manisha Manjari
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Salam shahe_karbala ki shan me
shabina. Naaz
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
चालीसा
Anurag pandey
तुम बूंद बंदू बरसना
Saraswati Bajpai
कटुसत्य
Shyam Sundar Subramanian
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
मत करना।
Taj Mohammad
Loading...