Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

हर सुबह को आता है नींद से जगा देना

हर सुबह को आता है नींद से जगा देना
सत्य को भी आता इंसान को सजा देना

जिन्दगी की बगियाँ को फूल से खिला देना
बीज चाह के बो सरगम नया सजा देना

प्रेमिका पुरानी तेरी रही युगों से मैं
तुम न अब किसी से फिर आँख को लड़ा देना

पास आ कभी हमसे दूर मत चले जाना साँस से बँधी हूँ जीवन दे मुझे जिला देना

हाथ जब पिता ने तुझको दिया हमेशा को
प्यार से मुझे रख कोई न फिर गिला देना

हो गया न जाने क्यों प्रेम रोग मुझको अब
आज फिर मुझे कोई रोग की दवा देना

झाड फूँक सब मैं करवा चुकी हूँ अब
फिर असर न करती कोई दवा दुआ देना

70 Likes · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
अंतहीन
अंतहीन
Dr. Rajeev Jain
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
बाग़ी
बाग़ी
Shekhar Chandra Mitra
जिसके भीतर जो होगा
जिसके भीतर जो होगा
ruby kumari
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
🌸 सभ्य समाज🌸
🌸 सभ्य समाज🌸
पूर्वार्थ
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
Bodhisatva kastooriya
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
किसान
किसान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
फ़र्क़..
फ़र्क़..
Rekha Drolia
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
"प्रत्युत्तर"
*प्रणय प्रभात*
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
आज बुढ़ापा आया है
आज बुढ़ापा आया है
Namita Gupta
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
*आगे आनी चाहिऍं, सब भाषाऍं आज (कुंडलिया)*
*आगे आनी चाहिऍं, सब भाषाऍं आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
आखिर मैं हूं ऐसी क्यों
आखिर मैं हूं ऐसी क्यों
Lovi Mishra
Loading...