Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2023 · 1 min read

हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार

हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार है
पर चुप रहना एक मात्र हथियार नहीं है उस स्थिति से बचने का क्योंकि यदि शांत रहना सबसे अच्छा हथियार होता तो शायद कुरुक्षेत्र की कुरूसभा में धृतराष्ट्र और पितामह भीष्म का शांत रहना इतना भारी न पड़ता

177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
अधूरी प्रीत से....
अधूरी प्रीत से....
sushil sarna
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
तुम्हारे जाने के बाद...
तुम्हारे जाने के बाद...
Prem Farrukhabadi
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
खत्म हुआ जो तमाशा
खत्म हुआ जो तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
महाप्रलय
महाप्रलय
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
"अनाज"
Dr. Kishan tandon kranti
2437.पूर्णिका
2437.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
टाँग इंग्लिश की टूटी (कुंडलिया)
टाँग इंग्लिश की टूटी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
ఉగాది
ఉగాది
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐अज्ञात के प्रति-114💐
💐अज्ञात के प्रति-114💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कवियों से
कवियों से
Shekhar Chandra Mitra
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
*Author प्रणय प्रभात*
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
Harminder Kaur
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
हिंदी दिवस पर हर बोली भाषा को मेरा नमस्कार
हिंदी दिवस पर हर बोली भाषा को मेरा नमस्कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...