Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।

हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
तू क्या जाने जिंदगी कैसे कैसे संवर रहा हूं ।
दिल तोड़कर यूं मेरा मुकद्दर मिटा दिया है।
उस वेबफा की याद में हद से गुज़र रहा हूं।।
Phool gufran

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
💐प्रेम कौतुक-455💐
💐प्रेम कौतुक-455💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
चले हैं छोटे बच्चे
चले हैं छोटे बच्चे
कवि दीपक बवेजा
जब-जब सत्ताएँ बनी,
जब-जब सत्ताएँ बनी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*यह समय के एक दिन, हाथों से मारा जाएगा( हिंदी गजल/गीतिका)*
*यह समय के एक दिन, हाथों से मारा जाएगा( हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
** पहचान से पहले **
** पहचान से पहले **
surenderpal vaidya
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
गुरु से बडा ना कोय🙏
गुरु से बडा ना कोय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
Anis Shah
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
तू बेमिसाल है
तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
हंसते ज़ख्म
हंसते ज़ख्म
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Aksar rishte wahi tikte hai
Aksar rishte wahi tikte hai
Sakshi Tripathi
मैथिली हाइकु कविता (Maithili Haiku Kavita)
मैथिली हाइकु कविता (Maithili Haiku Kavita)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कारण मेरा भोलापन
कारण मेरा भोलापन
Satish Srijan
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
== करो मनमर्जी अपनी ==
== करो मनमर्जी अपनी ==
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
"बचपन"
Tanveer Chouhan
Loading...