Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

हर चेहरा है खूबसूरत

हर चेहरा है खूबसूरत,जिस पर है मुस्कान।
रंग भेद में काहे तू ,उलझा बैठा है इंसान ।

खिल जाती है जिंदगी,जब खुल कर हंसे।
खुशी के मायाजाल में जाते हैं हम फंसे।

खुद को खुश रखना,ग़र ले बन्दे तू‌ सीख
ये ग़म ,ये दुःख तेरे ,दर दर मांगेंगे भीख ।

कोशिश करें हम , एक चेहरे को दे मुस्कान
एक मुस्कान कर देती ,सांस लेना आसान।

खुशी कभी अमीरी की मोहताज नहीं रही।
जितनी जिसने बांटी,उतनी ये बढ़ती रही।

सुरिंदर कौर

1 Like · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
#ऐसे_समझिए...
#ऐसे_समझिए...
*Author प्रणय प्रभात*
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
Dr. Man Mohan Krishna
परमात्मा से अरदास
परमात्मा से अरदास
Rajni kapoor
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
दुनिया
दुनिया
Jagannath Prajapati
"कलम और तलवार"
Dr. Kishan tandon kranti
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
टन टन बजेगी घंटी
टन टन बजेगी घंटी
SHAMA PARVEEN
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
भ्रमन टोली ।
भ्रमन टोली ।
Nishant prakhar
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
परवाज़ की कोशिश
परवाज़ की कोशिश
Shekhar Chandra Mitra
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
DrLakshman Jha Parimal
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3254.*पूर्णिका*
3254.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
*कण-कण में भगवान हैं, कण-कण में प्रभु राम (कुंडलिया)*
*कण-कण में भगवान हैं, कण-कण में प्रभु राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...