Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे…

हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे…
हर किसी के आगे किताब कोंन रक्खे

हर उपलब्धि का कारण जानना है क्यों
हर बात का हमेशा जबाब क्यू रक्खे…!

कवि दीपक सरल

1 Like · 1 Comment · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आलोचना के द्वार
आलोचना के द्वार
Suryakant Dwivedi
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
कैसे आये हिज्र में, दिल को भला करार ।
कैसे आये हिज्र में, दिल को भला करार ।
sushil sarna
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
"" *मौन अधर* ""
सुनीलानंद महंत
2882.*पूर्णिका*
2882.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंजान बनकर चल दिए
अंजान बनकर चल दिए
VINOD CHAUHAN
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
ऐसी फूलों की एक दुकान उस गली मैं खोलूंगा,
ऐसी फूलों की एक दुकान उस गली मैं खोलूंगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
gurudeenverma198
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
अपने
अपने
Adha Deshwal
ये कैसे होगा कि तोहमत लगाओगे तुम और..
ये कैसे होगा कि तोहमत लगाओगे तुम और..
Shweta Soni
साधना
साधना
Vandna Thakur
Loading...