Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2017 · 1 min read

“हर एक दीवाना सा लगता है”

अब तो हर अपना,बेगाना सा लगता है।
तेरा शहर भी गमों का,ठिकाना सा लगता है।।

तू थी शहर में तो, एक जमाना सा था।
तू गई छोड़कर तो,एक जमाना सा लगता है।।

हर एक गली,कूचा,नज़र,हर मुकाम यहाँ।
गमें उदास तेरे,हर एक दीवाना सा लगता है।।

फूल खिल रहे है मगर,रोज दुश्मन के यहाँ।
पानी सींचने वाला कोई, अपना सा लगता है।।

मिलती थी ख़ुशी’जय’,तेरे नाम से बुलाते थे।
अब बुलाए तो बस,जैसे सताना सा लगता है।।

हर तड़प, हर कसक, और वीरां जिंदगी को।
तेरी जुदाई में बस,आंसू बहाना सा लगता है।।

रचियता
संतोष बरमैया”जय”

420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
शेखर सिंह
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
"Strength is not only measured by the weight you can lift, b
Manisha Manjari
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
*Author प्रणय प्रभात*
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तभी भला है भाई
तभी भला है भाई
महेश चन्द्र त्रिपाठी
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
Neelam Sharma
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
गाली / मुसाफिर BAITHA
गाली / मुसाफिर BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
3114.*पूर्णिका*
3114.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्रेम एक निर्मल,
प्रेम एक निर्मल,
हिमांशु Kulshrestha
करारा नोट
करारा नोट
Punam Pande
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"देखना हो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
When you remember me, it means that you have carried somethi
When you remember me, it means that you have carried somethi
पूर्वार्थ
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
Suryakant Dwivedi
अर्थ नीड़ पर दर्द के,
अर्थ नीड़ पर दर्द के,
sushil sarna
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
Loading...