Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2023 · 1 min read

हर इक सैलाब से खुद को बचाकर

हर इक सैलाब से खुद को
बचाकर के चले आए ।
अहम दिल के तो दरिया में
बहा करके चले आए ।।

जहां पर आचमन करने से
दिल के दाग धुलते हैं ।
उसी पावन त्रिवेणी में
नहा कर के चले आए ।।

कभी सर्दी कभी गर्मी
कभी दोपहर से गुजरे ।
नहीं मालूम है हमको
कब किस पहर से गुजरे ।।

अपने जीवन के रंजो गम
दबाकर अपने सीने में ।
लुटाया प्यार ही हमने
जहां जिस शहर से गुजरे।।

©अभिषेक पाण्डेय अभि

28 Likes · 2 Comments · 359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
3483.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3483.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
Rj Anand Prajapati
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
15--🌸जानेवाले 🌸
15--🌸जानेवाले 🌸
Mahima shukla
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
😢हे माँ माताजी😢
😢हे माँ माताजी😢
*Author प्रणय प्रभात*
"उल्लास"
Dr. Kishan tandon kranti
हक़ीक़त पर रो दिया
हक़ीक़त पर रो दिया
Dr fauzia Naseem shad
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
जला दो दीपक कर दो रौशनी
जला दो दीपक कर दो रौशनी
Sandeep Kumar
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
अव्यक्त प्रेम (कविता)
अव्यक्त प्रेम (कविता)
sandeep kumar Yadav
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
Pooja Singh
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
Ravi Prakash
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
कीमत क्या है पैमाना बता रहा है,
कीमत क्या है पैमाना बता रहा है,
Vindhya Prakash Mishra
Loading...