Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,

हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
कोई पहले तो कोई बाद में किसी अपने के लिए रोता ही है
लेकिन ये अहसास तब होता है जब बात ख़ुद पर आती है
और तब उस इंसान की तकलीफ़ का शायद समझ आती है।

45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
2644.पूर्णिका
2644.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू  हुआ,
उसके पलकों पे न जाने क्या जादू हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पता नहीं कुछ लोगों को
पता नहीं कुछ लोगों को
*Author प्रणय प्रभात*
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
Ravi Prakash
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
Dr. Man Mohan Krishna
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
Tum ibadat ka mauka to do,
Tum ibadat ka mauka to do,
Sakshi Tripathi
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
Loading...