Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 2 min read

हरियाणा दिवस की बधाई

हरियाणा दिवस की बधाई
**********************
1
बहुत प्यारा राज्य हरियाणा।
कला साहित्य भरा खजाना।।
संस्कृति यहाँ की हरी – भरी।
सितारों से खूब धरा भरी।।
2
दूध – दही जहाँ का है खाना।
बैठक में बैठ ताश बजाना।।
मेहनतकश हैँ पसीना बहना।
राग रागिनी गाना बजाना।
3
एक नवंबर जन्मा हरियाणा।
सुख समृद्धि भरपूर खजाना।।
विश्व पटल झंडा लहराना।
मय से महकता है मयखाना।।
4
खेलों में रहा नहीं फ़िसड्डी।
खेल खेलते जवान कबड्डी।।
खिलाड़ी खूब पसीना बहाते।
विश्व पटल पर नाम कमाते।।
5
विश्व कप क्रिकेट में विजेता।
कपिल देव सा कहीं न देखा।।
कुश्ती – कबड्डी – मुक्केबाजी।
रही नहीं कहीं कसर बाकी।।
6
गीत गाते गायक सुरीले।
नाच नाचते नृतक रंगीले।।
रंग – बिरंगे प्रेम तराने।
आते याद प्यार अफ़साने।।
7
चौड़ी छाती छैल छबीले।
कसरत करते खूब हठीले।।
हौसलों में बिल्कुल न ढ़ीले।
संस्कारों से भरे क़बीले।।
8
सरहद पर बन फौजी जाते।
सैनिक हैं परचम लहराते।।
गाथा शौर्य की सदा गाते।
दुश्मनों को जड़ से मिटाते।।
9
परमवीर चक्र पदक धारी।
होशियार सिँह शत्रु पर भारी।।
सोनीपत जिले के निवासी।
नहीं चली दुश्मन बदमाशी।।
10
दूध दही का है खाते खाना।
प्रेम प्यार का गाते गाना।।
आपस मे है भाईचारा।
हरियाणा है सबसे न्यारा।।
11
बहती यहाँ साहित्य धारा।
साहित्यिक रंग मंच न्यारा।।
कलाकर्मी का लगता तांता।
कलाकारिता का पर लगता।।
12
लख्मीचंद के सांग निराले।
रग रग में बसे राग प्याले।।
कह गया सारी सच्ची बातें।
जाग बितायी काली रातें।।
13
ऊँची टेक रागनी गाते।
किस्से कहानी हैं बतियाते।।
सांस्कृतिक लगते हैं मेले।
सुख दुख भी हैं मिलकर झेले।।
14
संतों की है पावन धरती।
दुख तकलीफें सारी हरती।।
परमसन्तों का फिरता टोला।
आल्हा रक्खा सबका मौला।।
15
रणबीर , यशपाल ,ओमपुरी।
चमके खूब दूर हुई मशहूरी ।।
सिने जगत चमकते सितारे ।
लगते सभी को बहुत प्यारे।।
16
उच्चश्रेणी के हैं अभिनेता।
चाहते जिनको दिल से श्रोता।।
अन्नू मलिक संगीत बजाया।
मीठा सा सुरतान सुनाया।।
17
सतीश कौशिक ने दी फिल्में।
जगह बनाई सब के दिल में।।
सुनील दत्त बहुमूल्य हीरे।
जन्मे यमुना नदी के तीरे।।
18
राजनीति में. हैं दक्ष नेता।
राजनीतिक विद्या के ज्ञाता।।
बंसी लाल कुशल महारथी।
हरियाणा राज्य के सारथी।।
19
भजन लाल प्रवीण सियासती।
मुख्यमंत्री का पद पावती।।
देवीलाल किसान मसीहा।
हलधर हित में खोली जिव्हा।।
20
सोनू निगम गायक सुरीले।
सुर लय में कभी नहीं ढ़ीले।।
सुषमा स्वराज निपुण नेत्री।
जूही हिन्दी फ़िल्म अभिनेत्री।।
21
बी. डी. शर्मा थे मुख्यमंत्री।
महेन्द्र फिजी प्रधानमंत्री।।
छोटू राम थे क्रांतिकारी।
गरीब किसान सदा आभारी।।
22
मनसीरत रहता गुण गाता।
जन की रहे गाथा सुनाता।।
जब तक होगी दुनियादारी।।
गुण गाएगी जनता सारी।
***********************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
नदी
नदी
Kumar Kalhans
कविता ही हो /
कविता ही हो /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हम
हम
Shriyansh Gupta
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
"सुर्खी में आने और
*Author प्रणय प्रभात*
Parents-just an alarm
Parents-just an alarm
Sukoon
*तितली आई 【बाल कविता】*
*तितली आई 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
मरना कोई नहीं चाहता पर मर जाना पड़ता है
मरना कोई नहीं चाहता पर मर जाना पड़ता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...