Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2023 · 1 min read

हरितालिका तीज

हरितालिका तीज
हरितालिका के पावन पर्व पर हर नारी की यही कामना,
स्नेह प्यार मिलता रहे साथ निभाए सदा उसके सजना।
अपने पति में देखती वो छवि राधा मोहन श्याम की,
मांगती आशीष नाम अमर हो जैसे हुई सिया और राम की।
शिव शिवा की पूजा करके करती चरणों में नमन,
पति खुश रहें इसलिए करती हर संभव जतन।
हाथों में अपने पिया के नाम की मेहंदी वो रचाए,
करती सुरम्य श्रृंगार वही जो पिया मन भाए।
हरितालिका तीज के इस पावन त्यौहार में,
पत्नी करती निर्जला व्रत पति के प्यार में।
बिन पानी और भोजन बिना भी उसका चेहरा खिला,
पावन व्रत और पूजन का उसको सुंदर सा फल मिला।
देख के पत्नि का यह अनुपम त्याग और समर्पण,
पति हर्षित हो करे पत्नि के लिए सर्वस्व अर्पण।
हरितालिका तीज का यह पावन व्रत और पूजन जो करे,
शिव शक्ति के आशीष से उसका सिंदूर सुहाग सदैव अमर रहे।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
अमृता प्रीतम
अमृता प्रीतम
Dr fauzia Naseem shad
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
........,?
........,?
शेखर सिंह
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
सीमा पार
सीमा पार
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
*लेटलतीफ: दस दोहे*
*लेटलतीफ: दस दोहे*
Ravi Prakash
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
Surinder blackpen
*भगत सिंह हूँ फैन  सदा तेरी शराफत का*
*भगत सिंह हूँ फैन सदा तेरी शराफत का*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...