Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2018 · 1 min read

हम श्रमिक

आज श्रमिक दिवस है.
श्रमिक की वेदना व्यक्त करती मेरी कविता.

हम श्रमिक

हम रहे श्रमिक हम क्या जानें
अच्छे दिन कैसे होते हैं
दो जून की रोटी की खातिर,
हम सुबह शाम तक खटते है.

जिस दिन भी काम नहीं मिलता,
उस रोज नींद उड़ जाती है
कैसे अब राशन आएगा,
बस चिन्ता यही सताती है

हारी बीमारी में तो हम
पल पल तिल तिल ही मरते हैं
हम रहे श्रमिक हम क्या जानें
अच्छे दिन कैसे होते हैं

हम मजदूरों का क्या जीवन
बँधुआ है तन, बँधुआ ये मन
बिस्तर कठोर धरती का है
छत का साया है नील गगन

मेहनत तो पूरी करते हैं
फिर भी पगार कम पाते हैं
हम रहे श्रमिक हम क्या जानें
अच्छे दिन कैसे होते हैं

सरकार किसी की भी आए
हमको तो यूँ ही खटना है
सरकारों का आना जाना
मात्र जरा सी घटना है

इन सारे ही नेताओं के
वादे तो झूठे होते हैं
हम रहे श्रमिक हम क्या जानें
अच्छे दिन कैसे होते हैं

@shrikrishna.53
श्रीकृष्ण शुक्ल,
मुरादाबाद
मोबाइल 9456641400

250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त का क्या है
वक्त का क्या है
Surinder blackpen
"कर्तव्य"
Dr. Kishan tandon kranti
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
.
.
*प्रणय प्रभात*
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
Sonam Puneet Dubey
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"राष्टपिता महात्मा गांधी"
Pushpraj Anant
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
🍇🍇तेरे मेरे सन्देश-1🍇🍇
🍇🍇तेरे मेरे सन्देश-1🍇🍇
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कागज़ पे वो शब्दों से बेहतर खेल पाते है,
कागज़ पे वो शब्दों से बेहतर खेल पाते है,
ओसमणी साहू 'ओश'
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...