Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 2 min read

हम (लघुकथा)

हम (लघुकथा)

पता नही कब से यें गलतफहमी तुम्हारे दिल में अपना अपना घर बना बैठी । चूंकि इस दिल पर तो केवल मैने अपना ही अधिकार समझा था।
तुम्हे ऐसा क्यो लगा कि मेरे रिश्ते सिर्फ मेंरे और तुम्हारे सिर्फ तुम्हारें ही है। क्यो बांट रहे हो इन्हे।
यें तुमने मुझें कहाँ खड़ा कर दिया इन रिश्तो के बीच लाकर मुझे केवल दिल से रिश्ते निभाने आते है। न तो मैं इन्हे कभी ठुकरा सकती हूँ और न ही कभी आंकलन कर सकती हूँ। कि यें मेंरे है या तुम्हारे मुझे तो हर रिश्ते में केवल भाव ही नजर आता है। स्वार्थ कभी नही अपेक्षा करती तो शायद मेरे हाथ केवल दु:ख ही लगता।
फिर तुुम्हारी और से यें उपेक्षा क्यो ??? याद है ! तुम्हे वो सात फेंरे और वो वचन। बस मैं उन्हे आज भी ऐसे ही याद रखती हूँ जैसे श्वास प्रश्वास चलती है।
तुम्हारा ध्यान मुझे हमेंशा घेरे रहता है। तुम भी इसी की तरह हो जाओ ना !
मेरें हर भावों में एहसासों में तुम किसी न किसी रूप मे हमेंशा शामिल रहते हो। परन्तु मैं नही जानती कि मैं कहाँ हूँ दिल में दिमाग़ में या???
जानते हो तुम्हारे मुँह से निकले चन्द तारीफ भरे लफ़्ज मुझमे जीवन का संचार करते है।नवीन शक्ति से ओतप्रोत हो जाती हूँ मै तुम्हारे मधुर शब्दो को सुनकर….
तुम्हारे स्पर्श मात्र से यह चितवन खिल उठता है। याद तुम्हे वो प्रथम स्पर्श तुमने मेरा हाथ अपने हाथ में लिया था।
और कभी उस हाथ को न…. छोड़ने की कसम खायी थी….
क्योकि उस दिन तुम -तुम नही मैं-मै न होकर हम हो गये थे। तो समझो तुम यें रिश्ते….. केवल मेरे या तुम्हारे नही हमारे
है हमारे समझे !

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Language: Hindi
233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
"परख"
Dr. Kishan tandon kranti
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
*नई मुलाकात *
*नई मुलाकात *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2996.*पूर्णिका*
2996.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
मुझे आदिवासी होने पर गर्व है
मुझे आदिवासी होने पर गर्व है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिंदगी का कागज...
जिंदगी का कागज...
Madhuri mahakash
"" *चाय* ""
सुनीलानंद महंत
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बहारें तो आज भी आती हैं
बहारें तो आज भी आती हैं
Ritu Asooja
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
Ravi Prakash
प्यार का बँटवारा
प्यार का बँटवारा
Rajni kapoor
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
Loading...