Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2023 · 1 min read

हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें

हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
सरसता ,सरलता ,ह्रदय को
छूने का पैगाम दे दें !@लक्ष्मण

352 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल के हर
दिल के हर
Dr fauzia Naseem shad
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
लगाव का चिराग बुझता नहीं
लगाव का चिराग बुझता नहीं
Seema gupta,Alwar
"उपबन्ध"
Dr. Kishan tandon kranti
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
Kirti Aphale
क्या बात है फौजी
क्या बात है फौजी
Satish Srijan
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मेघ
मेघ
Rakesh Rastogi
हमारी
हमारी "डेमोक्रेसी"
*Author प्रणय प्रभात*
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
*दुर्भाग्य से बौनों ने पाया, उच्चतम-पदभार है  (हिंदी गजल/गीत
*दुर्भाग्य से बौनों ने पाया, उच्चतम-पदभार है (हिंदी गजल/गीत
Ravi Prakash
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
Maine jab ijajat di
Maine jab ijajat di
Sakshi Tripathi
Loading...