Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2023 · 1 min read

हम भारत के लोग उड़ाते

हम भारत के लोग उड़ाते
नहीं फ़क़त अब कनकइया।
चीर अंधेरा चन्द्रयान से
चाँद पर जाते हम भइया।
देश मदारी का न केवल
न ही केवल हैं गईया।
चन्द्र वक्ष पर रोवर प्रज्ञान
कान्हा सम करे ता थैया।

283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
खुदा की हर बात सही
खुदा की हर बात सही
Harminder Kaur
अधीर मन
अधीर मन
manisha
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
कल की फिक्र में
कल की फिक्र में
shabina. Naaz
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सच
सच
Neeraj Agarwal
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
नव वर्ष (गीत)
नव वर्ष (गीत)
Ravi Prakash
कठपुतली की क्या औकात
कठपुतली की क्या औकात
Satish Srijan
3013.*पूर्णिका*
3013.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-105💐
💐अज्ञात के प्रति-105💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
Mahender Singh
#जय_सियाराम
#जय_सियाराम
*Author प्रणय प्रभात*
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
जो बेटी गर्भ में सोई...
जो बेटी गर्भ में सोई...
आकाश महेशपुरी
बर्दाश्त की हद
बर्दाश्त की हद
Shekhar Chandra Mitra
ख़राब आदमी
ख़राब आदमी
Dr MusafiR BaithA
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
Buddha Prakash
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...