Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

*हम नदी के दो किनारे*

हम नदी के दो किनारे
*******************

हम नदी के दो किनारे,
बहते नीर के हम सहारे।

कभी मिल भी ना पायें,
फांसले दरमियां हमारे।

दूरियाँ ही हैँ हमने पाई,
एक दूसरे को हैँ निहारें।

देखते रहते मन टिकाये,
आती जाती सब बहारें।

कोई आये मेल कराये,
मिल जाएं प्रेम फुहारें।

दर आओ हम संभाले,
नाम ले कर हम पुकारें।

खोये खोये कहीं सोये,
ख्वाब जो हमारे तुम्हारे।

बन गये हैँ धरती अंबर,
गवाह सारे चाँद सितारे।

बांहों में रूप मनसीरत,
आन मिलो जरा निखारें।
*******************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

1 Like · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
दीपक झा रुद्रा
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
क्या कभी तुमने कहा
क्या कभी तुमने कहा
gurudeenverma198
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
3093.*पूर्णिका*
3093.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ruby kumari
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
* प्यार का जश्न *
* प्यार का जश्न *
surenderpal vaidya
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
1...
1...
Kumud Srivastava
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भगवान भी रंग बदल रहा है
भगवान भी रंग बदल रहा है
VINOD CHAUHAN
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शाम
शाम
Neeraj Agarwal
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
DrLakshman Jha Parimal
NeelPadam
NeelPadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
Loading...