Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2023 · 1 min read

हम अपनी ज़ात में

बिख़र के तुमको दिखायें,
ये नहीं मुमकिन ।
हम अपनी ज़ात में सिमटे हैं
अपने होने तक ॥
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
4 Likes · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
मुस्कान
मुस्कान
Santosh Shrivastava
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
24/232. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/232. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्ता अपनी सुविधा अपनी खर्चा सिस्टम सब सरकारी।
सत्ता अपनी सुविधा अपनी खर्चा सिस्टम सब सरकारी।
*Author प्रणय प्रभात*
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
जीवन के किसी भी
जीवन के किसी भी
Dr fauzia Naseem shad
*कुत्ते चढ़ते गोद में, मानो प्रिय का साथ (कुंडलिया)*
*कुत्ते चढ़ते गोद में, मानो प्रिय का साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
तुम रंगदारी से भले ही,
तुम रंगदारी से भले ही,
Dr. Man Mohan Krishna
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
बढ़ती इच्छाएं ही फिजूल खर्च को जन्म देती है।
बढ़ती इच्छाएं ही फिजूल खर्च को जन्म देती है।
Rj Anand Prajapati
3 *शख्सियत*
3 *शख्सियत*
Dr Shweta sood
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
Loading...