Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

हमे भी इश्क हुआ

हमे भी इश्क हुआ
इक दफ़ा नहीं, कई कई दफ़ा हुआ
और जितनी भी दफ़ा हुआ
बस उसी बेवफा से हुआ

The_dk_poetry

1 Like · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
Manoj Mahato
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
विद्यार्थी के मन की थकान
विद्यार्थी के मन की थकान
पूर्वार्थ
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
उसकी एक नजर
उसकी एक नजर
साहिल
"आँखों की नमी"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
Godambari Negi
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
नया साल
नया साल
Arvina
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
Rj Anand Prajapati
#काव्यात्मक_व्यंग्य :--
#काव्यात्मक_व्यंग्य :--
*Author प्रणय प्रभात*
*मन में जिसके लग गई, प्रभु की गहरी प्यास (कुंडलिया)*
*मन में जिसके लग गई, प्रभु की गहरी प्यास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नारी
नारी
विजय कुमार अग्रवाल
है कौन वहां शिखर पर
है कौन वहां शिखर पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
वक्त को कौन बांध सका है
वक्त को कौन बांध सका है
Surinder blackpen
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
ruby kumari
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
Loading...