Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

हमें लिखनी थी एक कविता

हमें लिखनी थी एक कविता
मगर हम लिख नहीं पाए…

तुम्हें कहनी थी कुछ बाते
जो कभी समय से तुम
सुन नहीं पाये …….
और हम भी कह नहीं पाये

मेरी प्यारी सी कविता
जो दिल में रहती है…..
सुनानी थी किसी सुबह
बैठ कर पेड़ों की छांव में
मगर ये हो नहीं पाया

चलो किसी दिन फुर्सत
मिली तो फिर से एक
नयी कविता रचेगे …
सुनाएंगे सभी को
और सब सुनेंगे एक दिन
मेरी कविता…मशहूर होगी
मेरे मरने के बाद भी ज़िन्दा रहेगी…….सुनो मेरी कविता!!!!!
.ShabinaZ

Language: Hindi
34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
*चांद नहीं मेरा महबूब*
*चांद नहीं मेरा महबूब*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*मित्र*
*मित्र*
Dr. Priya Gupta
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
माया और ब़ंम्ह
माया और ब़ंम्ह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
#शब्द_सुमन
#शब्द_सुमन
*Author प्रणय प्रभात*
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
नफ़रत के सौदागर
नफ़रत के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
Ravi Prakash
जय श्री कृष्णा राधे राधे
जय श्री कृष्णा राधे राधे
Shashi kala vyas
मैं लिखती नहीं
मैं लिखती नहीं
Davina Amar Thakral
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
Rj Anand Prajapati
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
मै अकेला न था राह था साथ मे
मै अकेला न था राह था साथ मे
Vindhya Prakash Mishra
Loading...