Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

हमारे देश में

हमारे देश में
“मुद्दे” का मतलब
उत्पाती बंदरों के हाथ
एक गेंद थमाना।।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
Gouri tiwari
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
महिला दिवस पर एक व्यंग
महिला दिवस पर एक व्यंग
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अफ़सोस का एक बीज़ उगाया हमने,
अफ़सोस का एक बीज़ उगाया हमने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वस्थ तन
स्वस्थ तन
Sandeep Pande
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
स्वयं के हित की भलाई
स्वयं के हित की भलाई
Paras Nath Jha
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
■ सीढ़ी और पुरानी पीढ़ी...
■ सीढ़ी और पुरानी पीढ़ी...
*Author प्रणय प्रभात*
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
नया से भी नया
नया से भी नया
Ramswaroop Dinkar
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
मन के भाव
मन के भाव
Surya Barman
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
23/03.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/03.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
Ajad Mandori
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...