Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!

हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!

सवाल कुछ भी हो, हर सवाल का जवाब देंगे हम!!
–wadi

2 Likes · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
■ एक_और_बरसी...
■ एक_और_बरसी...
*प्रणय प्रभात*
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
ये जिंदगी है साहब.
ये जिंदगी है साहब.
शेखर सिंह
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
अपनी मंजिल की तलाश में ,
अपनी मंजिल की तलाश में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता एक सूरज
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
मन कहता है
मन कहता है
Seema gupta,Alwar
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
Shweta Soni
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
Learn to recognize a false alarm
Learn to recognize a false alarm
पूर्वार्थ
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
प्रेम शाश्वत है
प्रेम शाश्वत है
Harminder Kaur
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...