Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

हमारी तुम्हारी मुलाकात

रास्ते में कहीं जब कभी हमारी तुम्हारी मुलाकात होगी तो
याद आएंगे
बीते पल
बीती बातें
बीते ख्वाव
कुछ सौगातें
कुछ वादे
कुछ यादें
जो गुजारे थे कभी साथ
फिर सहसा हम तुम दोनों ही आगे बढ़ जाएंगे
क्योंकि
लक्ष्य आधारित रहा है जीवन हमारा तुम्हारा
जिसमें
पल
बातें
ख्वाब
सौगातें
वादे
यादें
माईने नहीं रखते रखते हैं तो केवल
मंजिल
रास्ते
ओर सफर …..
सुशील मिश्रा ( क्षितिज राज)

Language: Hindi
Tag: Poem
153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
Manisha Manjari
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
Raju Gajbhiye
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
2439.पूर्णिका
2439.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
बेटी
बेटी
Akash Yadav
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
"ऐनक"
Dr. Kishan tandon kranti
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*ताना कंटक एक समान*
*ताना कंटक एक समान*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...