Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

हमारा जन्मदिवस – राधे-राधे

हमारा जन्मदिवस
जिस दिन का होता हमे
बेसब्री से इन्तजार,
वह होता निज जन्मदिवस का त्योहार
जिस पर मिलता सबका प्यार।।

अब उपहार की नहीं रहे लालसा,
बस ‘जन्मदिवस की बधाई ‘ कोई कहता,
सच में बहुत अच्छा लगता,
सुन यह अन्तर्मन को खुशियों से भरता।।

दिन यह खास होता
आम से स्पेशल बनाता,
जन्मदिवस के आते ही,
जीवन एक साल पूर्ण बनाता।।

उम्र के सोपान चढ़,
जीवन के पड़ाव पार कराता,
भले ही कम होता जीवन दर
बढ़ते चढ़ते हमें अनुभवी बनाता ।।

हां,इस दिन हम स्वयं को
देते हैं तोहफा,
व्यवहार रखूं मैं ऐसा
कोई भी ना हो मुझसे ख़फ़ा।।

छोटी-छोटी खुशियों के क्षण
भर लूं मैं अपने अंक,
क्रोध विरोध को सदा तज,
हंसता खेलता रहेमन।।

अनमोल है मानव जीवन
करते घन्यवाद आपका भगवन,.
मिले मुझे जो भी मेरे अपने,पराएं सज्जन,
मधुर मिलन सुंदर वंदन हो सबके संग।
– सीमा गुप्ता, अलवर राजस्थान

Language: Hindi
3 Likes · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
हौसला अगर बुलंद हो
हौसला अगर बुलंद हो
Paras Nath Jha
सुना था,
सुना था,
हिमांशु Kulshrestha
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
"हमारे शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
सत्य कुमार प्रेमी
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
gurudeenverma198
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3083.*पूर्णिका*
3083.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
Shashi kala vyas
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
Loading...