Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

*** हमसफ़र….!!! ***

“” आ साथ चलते हैं…
प्रीत के रंग गढ़ते हैं,
न जाने इस सफ़र का, है अंत कहाँ…?
एक कदम तेरा होगा…
एक कदम मेरा होगा,
दम-खम कोशिश पुरजोर…
कुछ अपना होगा,
न जाने, अंजाने इस डगर का छोर है कहाँ..?
मुश्किलों का कुछ दौर होगा…
भ्रमित-मन का कुछ शोर होगा…!
ढलती उम्र का कुछ जोर होगा…
शायद मतलबी मन का कुछ फेर होगा…!
राह में हर शाम, अंधेरों का डेरा होगा…
नाकामी का ग़फलत कुछ फेरा होगा..!
पर…
” समझौता ” हमारे असफलता में,
एक सफल साज होगा…!
तेरे-मेरे प्रीत-आंगन से…
हर समस्या का समाधान होगा…! “”

“” आ साथ चलते हैं…
प्रीत के रंग गढ़ते हैं..!
जब चलते-चलते राहों में…
कुछ थकान हो जाए पांवों में,
बजाय अकेले जाने तुम…
साथ मुझे बुला लेना…!
राहों में कुछ कसक-सी दर्द हो…
बजाय खुद सह जाने तुम,
मुझे अपनी इशारों में जता देना…!
बंटकर दो हिस्सों में…
मुश्किलों के हर दौर ,
शायद…! इस सफ़र में…
कुछ पल के लिए कम हो जाए…!
हो सके सफ़र में, हम कुछ परेशान हों…
चल आज हम हाथ मिलाते हैं,
शायद…! तेरी-मेरी समझदारी से…
हर मुश्किल आसान हो जाए…!
आ हिस्सेदारी की बात छोड़…
साझेदारी की कुछ बातें करते हैं…!
चल… कुछ पल ही सही…
आ जीभर मुस्कुरा लें…!
शायद… कहूं या न कहूं…
मुझे कुछ मालूम नहीं,
लेकिन…
बस अब एक चाह है मेरा,
तेरे प्रीत की रंगों से…
हर सतरंगी शाम,
रोज-रोज आम़ हो जाए…!
ये जो, दो पौधे हैं…
आ इन्हें अपने रंगों में सजा लेंगे…!
जीवन की अनुपम फुलवारी में…
आ इन्हें बसा लेंगे…!
चलते-चलते जब कहीं धूप लगे, राहों में…
कुछ पल के लिए ही सही,
एक सुकून छांव इन्हें बना लेंगे…!! “”

**************∆∆∆*************

Language: Hindi
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
#विभाजन_दिवस
#विभाजन_दिवस
*Author प्रणय प्रभात*
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Sakshi Tripathi
वृद्धाश्रम में दौर, आखिरी किसको भाता (कुंडलिया)*
वृद्धाश्रम में दौर, आखिरी किसको भाता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
मां
मां
Manu Vashistha
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरे मुक्तक
मेरे मुक्तक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
gurudeenverma198
"वो लॉक डाउन"
Dr. Kishan tandon kranti
3257.*पूर्णिका*
3257.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Manisha Manjari
फितरत
फितरत
Akshay patel
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
Loading...