Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2016 · 1 min read

हद होती है

आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है .
ज़ुल्म करे वो , सहन करें हम , दबने की भी हद होती है .
प्रेम की भाषा जो ना समझे , उससे प्यार बढ़ाना क्या ?
जो सच को भी झूठ बना दे , उसको साक्ष्य दिखाना क्या ?
बातचीत का मंथन कितना , मथने की भी हद होती है .
आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है .
नहीं – नहीं अब और नहीं , अबकी तुम्हें न छोड़ेंगे .
जिससे तुम बम फेंक रहे हो , वही हाथ अब तोड़ेंगे .
बहुत सुन लिये- बहुत कह लिये , कहने की भी हद होती है .
आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है
सौ गलती पर केशव ने भी , चक्र सुदर्शन उठा लिया .
तेरी गिनती सौ से ऊपर , जब चाहा तब दगा किया .
चुप्पी की भी मर्यादा , चुप रहने की भी हद होती है .
आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है
….. सतीश मापतपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*
Ravi Prakash
2811. *पूर्णिका*
2811. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
जिन स्वप्नों में जीना चाही
जिन स्वप्नों में जीना चाही
Indu Singh
"विद्या"
Dr. Kishan tandon kranti
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
पं अंजू पांडेय अश्रु
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
युगों    पुरानी    कथा   है, सम्मुख  करें व्यान।
युगों पुरानी कथा है, सम्मुख करें व्यान।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अल्प इस जीवन में
अल्प इस जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
काश! मेरे पंख होते
काश! मेरे पंख होते
Adha Deshwal
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
🙅पता चला है🙅
🙅पता चला है🙅
*प्रणय प्रभात*
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सामाजिकता
सामाजिकता
Punam Pande
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
Loading...