Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

हक़ीक़त है

यह कड़वी लेकिन हक़ीक़त है
कि हर व्यक्ति अपनी इच्छा और
पसंद को हमेशा सर्वोपरि रखता
है, वो वही स्वीकारता है जो वो
स्वीकार करना चाहता है ।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
4 Likes · 260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
*Author प्रणय प्रभात*
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
कहीं साथी हमें पथ में
कहीं साथी हमें पथ में
surenderpal vaidya
कहानी हर दिल की
कहानी हर दिल की
Surinder blackpen
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
बड़ा गहरा रिश्ता है जनाब
बड़ा गहरा रिश्ता है जनाब
शेखर सिंह
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*हो न हो कारण भले, पर मुस्कुराना चाहिए 【मुक्तक 】*
*हो न हो कारण भले, पर मुस्कुराना चाहिए 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
लक्ष्मी सिंह
2817. *पूर्णिका*
2817. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कैसा अजीब है
कैसा अजीब है
हिमांशु Kulshrestha
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...