Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर

हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
मुस्कुराने से पहले भी सोचना पड़ता है।
रोने पर जितने इल्जाम लगा करते थे
उससे ज़्यादा अब ,हंसने पर लगा करता है।
सोचा है की ,अब नहीं सोचेगे गैरों के लिए
दुश्मनी को भी कोई ,मेरी अब तरसता है
वास्ता नहीं ,ना ही ज़िक्र है बेमुरव्वत का
खामोश जुबां को वो ,गुरुर मेरा समझता है ।

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“मां बनी मम्मी”
“मां बनी मम्मी”
पंकज कुमार कर्ण
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
डर
डर
Neeraj Agarwal
जीवन एक मकान किराए को,
जीवन एक मकान किराए को,
Bodhisatva kastooriya
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
हाड़-माँस का है सुनो, डॉक्टर है इंसान (कुंडलिया)
हाड़-माँस का है सुनो, डॉक्टर है इंसान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
दिल ऐसी चीज़ है जो किसी पर भी ग़ालिब हो सकती है..
दिल ऐसी चीज़ है जो किसी पर भी ग़ालिब हो सकती है..
पूर्वार्थ
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
Jogendar singh
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
#प्रभा कात_चिंतन😊
#प्रभा कात_चिंतन😊
*Author प्रणय प्रभात*
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
"मैं आग हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
2522.पूर्णिका
2522.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...