Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 19, 2016 · 1 min read

हँसते हँसते अपने वतन पर कुर्बान हो गए/मंदीप

हँसते हँसते अपने वतन पर कुर्बान हो गए/मंदीप

हँसते हँसते अपने वतन पर कुर्बान हो गए,
हम तो मर कर भी अमर हो गए।

खाई थी जो कसम हम ने,
हम तो जाते जाते पूरा कर गए।

मिल गया हम ने तो नसीब अपना,
मरते मरते तिरंगे को छाती से लगा गए।

रहेगी थोड़ी सी मलाल ऐ जिंदगी से,
जाते जाते बूढे माँ बाप को आँसू दे गए।

गम में डूबा है क्यों “मंदीप” तू,
वो तो देश के प्रति अपना प्यार दिखा गए।

मंदीपसाई

105 Views
You may also like:
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
मंदिर
जगदीश लववंशी
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
योगा
Utsav Kumar Aarya
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
हमारी जां।
Taj Mohammad
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
ग़ज़ल
kamal purohit
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...