Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।

#विश्व_श्रमिक_दिवस_विशेष
~~~~~~~~~~~~||||||~~~~~~~~~~~~~
खेत भी, खलिहान तुम से, और सब, व्यवहार तुम से।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।

तोड़ कर, पाषाण को तुम, राह निर्मित कर रहे हो।
और श्रम, की साधना से, जग को जिह्मित कर रहे हो।
लाभ या, जयगान कह लें, है सकल, व्यापार तुम से।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत, आधार तुम से।।

हे श्रमिक! तुम से हमारे, हर्ष का नाता पुराना।
साज के, हर वाद्य का पुष्पित तुम्हीं से हैं तराना।
कर्म से, सिंचित जगत को, है मिला, उपहार तुम से।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत, आधार तुम से।।

मातृ-भू, के हो तनय तुम, वीरवर, हे! कर्म-योद्धा।
कर्म को, पूजा समझते, सत्य ही, तुम धर्म-योद्धा।
वेदना, से वक्ष वेधित, है मिला, सुखसार तुम से।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत, आधार तुम से।।

भूख से, वेधित क्षुधा लेकर शिलाएँ तोड़ते हो।
सूर्य, के तुम ताप का, सामर्थ्य, से पग मोड़ते हो।
हे! धरा, सुत अन्नदाता, है जगत, आहार तुम से।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत, आधार तुम से।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

Language: Hindi
Tag: गीत
6 Likes · 2 Comments · 817 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
■ सीधेई बात....
■ सीधेई बात....
*Author प्रणय प्रभात*
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
2503.पूर्णिका
2503.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
Anil "Aadarsh"
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
" चले आना "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीवन
जीवन
Monika Verma
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
Dr MusafiR BaithA
आपकी राय मायने रखती है
आपकी राय मायने रखती है
Shekhar Chandra Mitra
ढलता सूरज वेख के यारी तोड़ जांदे
ढलता सूरज वेख के यारी तोड़ जांदे
कवि दीपक बवेजा
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
मेरे जीने की एक वजह
मेरे जीने की एक वजह
Dr fauzia Naseem shad
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Sakshi Tripathi
मोर
मोर
Manu Vashistha
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
प्यार कर डालो
प्यार कर डालो
Dr. Sunita Singh
आस्था और चुनौती
आस्था और चुनौती
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"फर्क"-दोनों में है जीवन
Dr. Kishan tandon kranti
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
Loading...