Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2019 · 1 min read

स्वीकार है: जीवन की ललकार

रणक्षेत्र सजी हुई है
सेनायें सुसज्जित खड़ी है तैयार
जीत हो या हो भले ही हार,
है स्वीकार
जीवन की मुझे ललकार।

जल रहा प्रत्येक क्षण हृदय द्वेष और विरोध का
मानो जल रहा रवि प्रलय का
क्रोध वैमनस्य में चांद से भी अग्नि की लपटें निकल रही है
हिमगिरि की शिलायें भी जल उठी है।

छूट रहे शब्द-बाण चंहु ओर से
टूटते जा रहे हो भले संबंध सबके
हो भले व्रज का प्रहार
या धरती-आसमान मिले हुए हों
या जग के प्राण-प्राण मिले हुए हों।
मैं अकेला, अंधकार अपार,
है स्वीकार हर ललकार मुझे।

क्षुब्ध सागर की हिलोरें बढ़ रही हों
क्रुद्ध होकर हिम-शिखर पर चढ़ रही हों,
मैं भले चट्टान का एक मामूली टुकड़ा
राह रोके अविचल खड़ा मिलूंगा
भले हो जायें प्रलय में जलमग्न
है स्वीकार
लहरों की मुझे फुफकार।

युद्ध का परिणाम क्या होगा
परवाह नही मुझे,
मैं यौद्धा, युद्ध करना जानता हूँ;
रख दिया जो पैर वह आगे बढ़ेगा,
उच्चतम प्रालेय शिखरों पर चढ़ेगा।
मृत्यु की होगी वहाँ ललकार,
है स्वीकार
मुझको मृत्यु से भी प्यार।

जरूरत नही आश्रय का, अकेला चलूँ निर्भय
साथ में संसार चाहे हो नहीं;
नाव जीवन की चले भले तूफान में
हाथ में पतवार चाहे हो नहीं।
डूब जाये या कि हो जाऊं पार
जग करे घृणा या प्यार
करता ना इसकी तनिक परवाह।

रणक्षेत्र सजी हुई है
सेनायें सुसज्जित खड़ी है तैयार
जीत हो या हो भले ही हार,
है स्वीकार
जीवन की मुझे ललकार।

Language: Hindi
1 Like · 777 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
#व्यंग्य
#व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
Bato ki garma garmi me
Bato ki garma garmi me
Sakshi Tripathi
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
बातों का तो मत पूछो
बातों का तो मत पूछो
Rashmi Ranjan
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
"कथनी-करनी"
Dr. Kishan tandon kranti
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
क्या मिला है मुझको, अहम जो मैंने किया
क्या मिला है मुझको, अहम जो मैंने किया
gurudeenverma198
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
Loading...