Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 2 min read

स्वयं को पहचानना ज़रूरी है

मनुष्य इस संसार में असंख्य जीव-जन्तुओं के होते हुए भी सबसे अद्वितीय ही नहीं बल्कि ऊपर वाले की सबसे अनमोल कृति भी है। ईश्वर ने जिन विशेषताओं से मनुष्य को नवाजा हैं वे गुण और विशेषताएं किसी अन्य • जीव में देखने को नहीं मिलती सिवा हम मनुष्यों के। ऐसी अवस्था में मनुष्य की जिम्मेदारी बनती है कि वह ईश्वर की इस अनमोल कृति पर कभी भी कोई आंच न आने दें, अपने व्यक्तित्व को सकारात्मक रूप में इस प्रकार निखारें कि समाज के लिए स्वयं को एक उदाहरण के रूप में प्रस्तुत ही नहीं बल्कि प्रमाणित भी कर सकें।
मनुष्य होने के कारण प्रत्येक मनुष्य में कुछ विशेष गुण और कुछ विशेषताएं पाई जाती हैं लेकिन यह और बात है कि इन गुणों और विशेषताओं का आभास हर किसी को नहीं हो पाता, बहुत कम लोग ही ऐसे होते हैं जो अपने गुणों और अपने अंदर छिपी प्रतिभा को पहचान कर अपने अस्तित्व को मनवा पाते हैं और अपने अद्वितीय होने का प्रमाण भी प्रस्तुत करते हैं वरना ऐसे लोगों का कोई अभाव नहीं जो केवल दूसरों की प्रशंसा व गुणगान कर करके स्वयं को हीनता के गर्त में धकेलने से भी गुरेज नहीं करते।
ऐसा नहीं है कि हमें किसी अन्य की प्रशंसा या उसका गुणगान नहीं करना चाहिए, करना चाहिए लेकिन अपने व्यक्तित्व को कम आंककर दूसरे को उठाना किसी भी रूप में उचित नहीं, स्वयं को नकारने वाले लोग नकारात्मक प्रवृत्ति के ही नहीं होते बल्कि उनका स्वयं पर विश्वास भी शून्य ही होता है। ऐसे लोग कब दुनिया में आते हैं और दुनिया से रुखसत हो जाते हैं पता ही नहीं चलता। इसे हम दुर्भाग्य ही कहेंगे कि हमारे समाज में ऐसे लोगों की संख्या असंख्य है ऐसे लोग जो दूसरों के गुणों से प्रभावित होकर उन्हें सम्मान तो प्रदान करते हैं लेकिन अपने अन्दर छुपी प्रतिभा को, अपने मूल्य को, अपनी विशेषताओं को पहचान ही नहीं पाते।
यदि मनुष्य अपने जीवन के मूल्य को समझ लें और सकारात्मक सोच के साथ अपने गुणों और विशेषताओं को निखारने का प्रयास करें तो मुझे नहीं लगता कि उनके अन्दर की प्रतिभा उभरकर सामने न आये, जीवन में मिलने वाली असफलताएं सफलताओं में परिवर्तिन हो जाये। प्रयास तो केवल हमारा स्वयं का सही मूल्यांकन करने का होना चाहिए, इस बात को हमें सदैव स्मरण रखना चाहिए। हम स्वयं को अपनी दृष्टि में जितना ऊपर उठायेंगे, जितना मूल्यवान समझेंगे, उतना ही दूसरे भी आपको सम्मान भी देंगे और मूल्यवान भी समझेंगे, बस जरूरत केवल आपकी स्वयं में आत्मविश्वास उत्पन्न करने की होनी चाहिए और यह आप पर निर्भर करता है कि आप अपना क्या मूल्य आंकते हैं और स्वयं को कितना महत्व प्रदान करना जानते हैं।
डॉ. फौजिया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
8 Likes · 403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हासिल नहीं है कुछ
हासिल नहीं है कुछ
Dr fauzia Naseem shad
■ जानवर कहीं के...!!
■ जानवर कहीं के...!!
*प्रणय प्रभात*
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
इंजी. संजय श्रीवास्तव
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
Ajay Kumar Vimal
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Dr.Pratibha Prakash
2547.पूर्णिका
2547.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
आशिकी
आशिकी
साहिल
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
DrLakshman Jha Parimal
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
काश.! मैं वृक्ष होता
काश.! मैं वृक्ष होता
Dr. Mulla Adam Ali
विचार और विचारधारा
विचार और विचारधारा
Shivkumar Bilagrami
"आँखें "
Dr. Kishan tandon kranti
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
होली
होली
नूरफातिमा खातून नूरी
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उसे गवा दिया है
उसे गवा दिया है
Awneesh kumar
Loading...