Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

“स्वप्न”………

“स्वप्न”………
अँधेरी पगडंडियो में ,
मैं चलना सीखता हूँ ।
राहें सजानें के लिए ,
तारों को तोड़ता हूँ ।
मस्ती सूझती है तो ,
चाँद को छेड़ता हूँ ।
जुगनुएँ हथेली मे लेकर ,
रोशनी की चादर ओढ़ता हूँ ।
फूलों के बागान में ,
तितलियों के रंग चुराता हूँ ।
भौरों की टोली के संग ,
बैठकर मैं गीत गाता हूँ ।
इतने इक आवाज आती है ,
और स्वप्न से मैं जाग जाता हूँ ।।
✍️कैलाश सिंह

3 Likes · 1 Comment · 424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
हर मोड़ पर ,
हर मोड़ पर ,
Dhriti Mishra
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
नम्रता
नम्रता
ओंकार मिश्र
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
प्रकृति को जो समझे अपना
प्रकृति को जो समझे अपना
Buddha Prakash
दोहा पंचक. . . क्रोध
दोहा पंचक. . . क्रोध
sushil sarna
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
Keshav kishor Kumar
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
Otteri Selvakumar
भाग्य और पुरुषार्थ
भाग्य और पुरुषार्थ
Dr. Kishan tandon kranti
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
Sanjay ' शून्य'
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
🍈🍈
🍈🍈
*Author प्रणय प्रभात*
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
Loading...