Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

स्वतंत्रता दिवस

आजाद हुआ था जब भारत, वह पुण्य दिवस फिर आया है
भारत मां की जय का नारा, धरती अम्बर में छाया है

विपदाओं के बादल नभ में, हम कहीं नहीं छाने देंगे
भारत माता पर कोई भी ,हम आँच नहीं आने देंगे
मन में रखकर विश्वास यही, हमने झंडा फहराया है
आजाद हुआथा जब भारत,वो पुण्य दिवस फिरआया है

झंडे का कोई धर्म नहीं, यह सब धर्मों को प्यारा है
मिलता सबको सम्मान यहाँ ,यह हिंदुस्तान हमारा है
कुछ पुण्य हमारे ही होंगे, जो जन्म यहां पर पाया है
आजाद हुआ था जब भारत, वो पुण्य दिवस फिर आया है

गोरों के जुल्मों को सहकर, हमने आजादी पायी है
कितने ही वीरों ने अपनी, हँस हँसकर जान गवायी है
हमने उन वीर शहीदों को,अपना ये शीश झुकाया है
आजाद हुआ था जब भारत, वो पुण्य दिवस फिर आया है

15.08.2023
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 1716 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
शीर्षक:
शीर्षक: "ओ माँ"
MSW Sunil SainiCENA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
gurudeenverma198
दाना
दाना
Satish Srijan
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
Ravi Prakash
2971.*पूर्णिका*
2971.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुफ्तखोरी
मुफ्तखोरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
🙂
🙂
Sukoon
"जिसे जो आएगा, वो ही करेगा।
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...