Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2018 · 2 min read

स्वतंत्रता तुम्हारा जन्म सिद्ध अधिकार है,

मुझे कभी नहीं लगा मैं एक चिकित्सक हूँ.
डॉक्टर हूँ, वैध या भौतिक प्रतिभूति हूँ…।
मैं स्वयं को एक सेवक समझने की भूल करता रहा,

लोग बदल चुके थे,लोगों के पैमाईश के पैमाने बदल चुके थे,लोग मतलब के लिये मुझे इस्तेमाल कर रहे थे,
इस सेवा के क्षेत्र में कॉरपोरेट का प्रवेश हो चुका था,यह क्षेत्र धंधा व्यापार बन चुका था,

मैं आज भी पुरानी रीत से काम कर रहा था,
लोगों की नजर में महेंद्र एक अछूत की भांति चिंहित व्यक्तित्व था,
वह अपने कर्म से विचलित होने की बजाय सेवा में समर्पित.
पर मानसिकता को कौन बदलता.।
लोग परम्परा बन चुके हैं,

ऊपर वाला उनका बहम् है.
निर्धारित तो वे करते है,
डोर उनके हाथ है.
वे चाहे जैसे प्रस्तुत करें,
बाकि लोगों को सिर्फ मानना है,

निर्देशक बनी मीडिया,
जिम्मेदारी क्या है,
निभाना नहीं चाहती,
उनको आज भी नहीं मालूम,
निर्देशक का अर्थ क्या है,
चंद चकाचौंध के लिये बिक जाते हैं,
सत्य से उनका कोई वास्ता नहीं हैं,
नाम को डूबोते हैं,

GOD में डारेक्टर हैं,
माता-पिता संरक्षक,
और जनरेटर भी,
किसी को मतलब नहीं,

एक चिकित्सक में तीनों,
लोगों को दूसरा भगवान,
कहने में सुकून मिलता है,
कह देते हैं,
अर्थ से कोई वास्ते नहीं,
पहले दूसरे भगवान की तोहीन करते है,
फिर मारकर पूजा,
सिर्फ दवा देकर ठीक करना चिकित्सक भाव नहीं है,
जो इशारों में ठीक कर दें,
पीठ पर हाथ रख दे,
इलाज संभव है,
लोग पढ़ते हैं,
पर अमल नहीं करते,

उनका व्यवहार बदलता है,
वे दो मुहे हैं,
घर में,
व्यापार में,
असल जिंदगी में,
दोस्ती में उनका,
व्यवहार अलग है,
वे रावण से भी ज्यादा मुख रखते हैं,
उनके मुख से निकलने वाली वाणी,
दस से ज्यादा है,
इंद्रियां दस हैं,
उन्होंने ने मान लिया हैं,

शंकर के तीसरा नेत्र से वाकिफ हैं,
पढ़कर पाना चाहते हैं,
लोगों को मतलब हैं अपने बनाये हुये भगवान से,
वे अपने भगवान को खोजना नहीं चाहते,
उन्हें बाहर के गुरु के वाक्यों में अर्थ लगता है,
वे स्वयं को जानना नहीं चाहते,
वे गुलाम बने रहना चाहते है,
मुक्त होना ही नहीं चाहते,
सबके मतलब के अपने अर्थ है,
पूजा करना चाहते है,
अर्थ से कोई वास्ता नहीं रखना चाहते,
उनका अहित होता आ रहा है,
सोचना नहीं चाहते,

हटकर सोचने वाले,
अलग ही होते है,
पहचानना नहीं चाहते,

उनको मतलब है,
अपनी बात मनवाने से,
यही अहम है,
वर्ण व्यवस्था बना बैठे,
सदियों से मानवता ने इसे तोड़ने की भरपूर कोशिश की,
तोड़ नहीं पाये,

खुद ही बे-दर्द है,
दवा को खोजने चले,
क्या संभव है,
संभवत हो सकता है,

मेरा उत्तर है,
कभी नहीं,
मुक्ति का द्वार खुद से होकर गुजरता है,
कोई और कर नहीं सकता,

तुम जानना चाहते हो,
तुम कौन हो,
जानना भी मत,
क्योंकि तुम गुलाम हो,
मुक्त होना भी नहीं चाहते,

आये और आकर मान लिया,
जानना जरूरी भी नहीं हैं,
मुक्त हो जावोगे,
तुम्हारे जन्म का कोई अर्ध निकले,
तुम खुद नहीं चाहते,

#डॉ महेंद्र अनुभव

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 1 Comment · 538 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
लड़खड़ाते है कदम
लड़खड़ाते है कदम
SHAMA PARVEEN
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
उसके जैसा जमाने में कोई हो ही नहीं सकता।
उसके जैसा जमाने में कोई हो ही नहीं सकता।
pratibha Dwivedi urf muskan Sagar Madhya Pradesh
संवादरहित मित्रों से जुड़ना मुझे भाता नहीं,
संवादरहित मित्रों से जुड़ना मुझे भाता नहीं,
DrLakshman Jha Parimal
निकल पड़े है एक बार फिर नये सफर पर,
निकल पड़े है एक बार फिर नये सफर पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
Keshav kishor Kumar
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
विश्राम   ...
विश्राम ...
sushil sarna
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुहब्बत की दुकान
मुहब्बत की दुकान
Shekhar Chandra Mitra
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Dr.Pratibha Prakash
करपात्री जी का श्राप...
करपात्री जी का श्राप...
मनोज कर्ण
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सागर तट पर"
Dr. Kishan tandon kranti
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
🙅आज का अनुभव🙅
🙅आज का अनुभव🙅
*प्रणय प्रभात*
गुरु दीक्षा
गुरु दीक्षा
GOVIND UIKEY
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
Loading...