Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

स्पर्श

मादक नहीं था वह स्पर्श
भावुक भी नहीं था वह स्पर्श
जाने क्या , कैसा
क्यों कर हुआ वह स्पर्श

अचेतन के विशाल प्रान्त में
जहाँ प्राण तक ज्ञात नहीं
वहाँ अनुभव , अनुभूति ?
हाँ , संभव है
हो यही प्रेम का उत्कर्ष
मादक …

संचरित है रक्त में
अब तक समान अविचलित
ऊर्जा या पदार्थ
अथवा साम्य ?
नहीं है कोई निष्कर्ष
मादक …

स्पर्श ही था या भ्रम ?
मृग की कस्तूरी सा
सुगंध बाहर या अंतर में
हो रहा सचमुच एक संघर्ष
मादक …

वैचारिक शक्ति समाप्त
अज्ञान भी अपूर्ण , कहीं ये
कोशिकाओं का कोशिकाओं से
कोई गुप्त परामर्श
मादक …

अजय मिश्र

Language: Hindi
1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
शिव शंभू भोला भंडारी !
शिव शंभू भोला भंडारी !
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
शेखर सिंह
Can't relate......
Can't relate......
Sukoon
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
Shubham Pandey (S P)
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
"हरी सब्जी या सुखी सब्जी"
Dr Meenu Poonia
बेवफाई उसकी दिल,से मिटा के आया हूँ।
बेवफाई उसकी दिल,से मिटा के आया हूँ।
पूर्वार्थ
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
Ranjeet kumar patre
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
3060.*पूर्णिका*
3060.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...