Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

स्त्री:-

स्त्री:-
— ——
मंद तैरती मुस्कान है , वो
गीता गुरुग्रंथ क़ुरान है, वो
बच्चों सी नादान है, वो
पश्त हौसलों की ऊँची उड़ान है , वो ..

मृदुतम सहलाहट है, वो
नैसर्गिक खिलखिलाहट है , वो
चट्टानों सी अटल है, वो
कांटो में कमल है , वो
अंतर्मन की आवाज़ है, वो
सच्ची सज़ल रिवाज़ है, वो

ममता का आँचल है, वो
आँखों का काज़ल है, वो
फुहारों सी मद्दम है, वो
धराओ सी द्रुततम है, वो
गंगा सी शीतल है, वो
ख़ुशियों के पल है, वो

विश्व की मधुपटल , दुःख में ना हो कभी विकल
सुखो का निर्वाण है ,संबंधों का प्राण है वो…….

— विवेक मिश्रा

2 Likes · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
* सुहाती धूप *
* सुहाती धूप *
surenderpal vaidya
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
उलझी हुई है जुल्फ
उलझी हुई है जुल्फ
SHAMA PARVEEN
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
gurudeenverma198
देख लेते
देख लेते
Dr fauzia Naseem shad
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
Trishika S Dhara
राधा कृष्ण होली भजन
राधा कृष्ण होली भजन
Khaimsingh Saini
"गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
Khata kar tu laakh magar.......
Khata kar tu laakh magar.......
HEBA
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
3243.*पूर्णिका*
3243.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
ज़रा इतिहास तुम रच दो
ज़रा इतिहास तुम रच दो "
DrLakshman Jha Parimal
टिप्पणी
टिप्पणी
Adha Deshwal
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"आतिशे-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
Umender kumar
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
Loading...